Monday, February 13, 2017

1
तलाशती रही ज़िन्दगी-साथ
उनके भी साथ ,जो 
चलते रहे साथ साथ।

2
ख़ामोशी को अक्सर
राह का पत्थर समझ
ठोकरे मिलती हैं
चशनी में डूबे शब्द
जो छलनी भी करें
दर्द रोमान्स लगता है।
बात स्व:प्रकृति की है
किसको क्या अच्छा लगता है|

3
बाँसुरी सी तेरी याद
आज भी मन की तहो में
देती सुर 
सुबह नये गीत सी 
और 
शाम गज़ल सी बन जाती ।


4
कुदरत लिखती रही
हर दिन
जिन्दगी की किताब के पन्नें
हम किताबों में खोजते रहे ज़िन्दगी।
5
सागर से पूछा
कैसे हज़ारो राज
अपने तहों में छिपाये रहते हो
सागर मुस्कराया और बोला
मैं इंसान नहीं
जो अनभिज्ञ रहे
अपने ही मन की थाह से।
6
ये जिन्दगी
ठीक उसी सहेली सी है
जो प्यार तो बहुत करती है
पर मन की किसी तह में
जलन सम्भाले रखती है।

सीमा स्मृति

No comments:

Post a Comment